57-Surah Al-Hadeed

57 सूरए हदीद -तीसरा रूकू

57|20|اعْلَمُوا أَنَّمَا الْحَيَاةُ الدُّنْيَا لَعِبٌ وَلَهْوٌ وَزِينَةٌ وَتَفَاخُرٌ بَيْنَكُمْ وَتَكَاثُرٌ فِي الْأَمْوَالِ وَالْأَوْلَادِ ۖ كَمَثَلِ غَيْثٍ أَعْجَبَ الْكُفَّارَ نَبَاتُهُ ثُمَّ يَهِيجُ فَتَرَاهُ مُصْفَرًّا ثُمَّ يَكُونُ حُطَامًا ۖ وَفِي الْآخِرَةِ عَذَابٌ شَدِيدٌ وَمَغْفِرَةٌ مِّنَ اللَّهِ وَرِضْوَانٌ ۚ وَمَا الْحَيَاةُ الدُّنْيَا إِلَّا مَتَاعُ الْغُرُورِ
57|21|سَابِقُوا إِلَىٰ مَغْفِرَةٍ مِّن رَّبِّكُمْ وَجَنَّةٍ عَرْضُهَا كَعَرْضِ السَّمَاءِ وَالْأَرْضِ أُعِدَّتْ لِلَّذِينَ آمَنُوا بِاللَّهِ وَرُسُلِهِ ۚ ذَٰلِكَ فَضْلُ اللَّهِ يُؤْتِيهِ مَن يَشَاءُ ۚ وَاللَّهُ ذُو الْفَضْلِ الْعَظِيمِ
57|22|مَا أَصَابَ مِن مُّصِيبَةٍ فِي الْأَرْضِ وَلَا فِي أَنفُسِكُمْ إِلَّا فِي كِتَابٍ مِّن قَبْلِ أَن نَّبْرَأَهَا ۚ إِنَّ ذَٰلِكَ عَلَى اللَّهِ يَسِيرٌ
57|23|لِّكَيْلَا تَأْسَوْا عَلَىٰ مَا فَاتَكُمْ وَلَا تَفْرَحُوا بِمَا آتَاكُمْ ۗ وَاللَّهُ لَا يُحِبُّ كُلَّ مُخْتَالٍ فَخُورٍ
57|24|الَّذِينَ يَبْخَلُونَ وَيَأْمُرُونَ النَّاسَ بِالْبُخْلِ ۗ وَمَن يَتَوَلَّ فَإِنَّ اللَّهَ هُوَ الْغَنِيُّ الْحَمِيدُ
57|25|لَقَدْ أَرْسَلْنَا رُسُلَنَا بِالْبَيِّنَاتِ وَأَنزَلْنَا مَعَهُمُ الْكِتَابَ وَالْمِيزَانَ لِيَقُومَ النَّاسُ بِالْقِسْطِ ۖ وَأَنزَلْنَا الْحَدِيدَ فِيهِ بَأْسٌ شَدِيدٌ وَمَنَافِعُ لِلنَّاسِ وَلِيَعْلَمَ اللَّهُ مَن يَنصُرُهُ وَرُسُلَهُ بِالْغَيْبِ ۚ إِنَّ اللَّهَ قَوِيٌّ عَزِيزٌ

 

जान लो कि दुनिया की ज़िन्दगी तो नहीं मगर खेल कूद(1)
(1) जिस में वक़्त नष्ट के सिवा कुछ हासिल नहीं.
और आराइश और तुम्हारी आपस में बड़ाई मारना और माल और औलाद में एक दूसरे पर ज़ियादती चाहना(2)
(2) और उन चीज़ों में मश्ग़ूल रहना और उनसे दिल लगाना दुनिया है, लेकिन ताअतें और इबादतें और जो चीज़ें कि ताअत पर सहायक हों और वो आख़िरत के कामें में से हैं. अब इस दुनिया की ज़िन्दगानी की एक मिसाल इरशाद फ़रमाई जाती है.

उस मेंह की तरह जिसका उगाया सब्ज़ा किसानों को भाया फिर सूखा(3)
(3) उसकी सब्ज़ी जाती रही, पीला पड़ गया, किसी आसमानी आफ़त या ज़मीनी मसीबत से.

कि तू उसे ज़र्द देखे फिर रौंदन हो गया (4)
(4) कण कण, यही हाल दुनिया की ज़िन्दगी का है जिसपर दुनिया का तालिब बहुत ख़ुश होता है और उसके साथ बहुत सी उम्मीदें रखता है. वह निहायत जल्द गुज़र जाती है.

और आख़िरत में सख़्त अज़ाब है (5)
(5) उसके लिये जो दुनिया का तालिब हो और ज़िन्दगी लहव व लईब में गुज़ारे और वह आख़िरत की परवाह न करे ऐसा हाल काफ़िर का होता है.

और अल्लाह की तरफ़ से बख़्शिश और उसकी रज़ा (6)
(6) जिसने दुनिया को आख़िरत पर प्राथमिकता न दी.

और दुनिया का जीना तो नहीं मगर धोखे का माल (7){20}
(7) यह उसके लिये है जो दुनिया ही का हो जाए और उस पर भरोसा करले और आख़िरत की फ़िक्र न करे और जो शख़्स दुनिया में आख़िरत का तालिब हो और दुनियवी सामान से भी आख़िरत ही के लिये इलाक़ा रखे तो उसके लिये दुनिया की कामयाबी आख़िरत का ज़रिया है. हज़रत ज़ुन्नून मिस्त्री रज़ियल्लहो अन्हो ने फ़रमाया कि ऐ मुरीदों के गिरोह, दुनिया तलब न करो और अगर तलब करो तो उससे महब्बत न करो. तोशा यहाँ से लो, आरामगाह और है.

बढ़कर चलो अपने रब की बख़्शिश और उस जन्नत की तरफ़(8)
(8) अल्लाह की रज़ा के तालिब बनो, उसकी फ़रमाँबरदारी इख़्तियार करो और उसकी इताअत बजा लाकर जन्नत की तरफ़ बढ़ो.

जिसकी चौड़ाई जैसे आसमान और ज़मीन का फैलाव(9)
(9) यानी जन्नत की चौड़ाई ऐसी है कि सातों आसमान और सातों ज़मीनों के वरक़ बनाकर आपस में मिला दिये जाएं जितने वो हों उतनी जन्नत की चौड़ाई, फिर लम्बाई की क्या इन्तिहा.

तैयार हुई है उनके लिये जो अल्लाह और उसके सब रसूलों पर ईमान लाए, यह अल्लाह का फ़ज़्ल है जिसे चाहे दे, और अल्लाह बड़े फ़ज़्ल वाला है {21} नहीं पहुंचती कोई मुसीबत ज़मीन में (10)
(10) दुष्काल की, कम वर्षा की, पैदावर न होने की, फलों की कमी की, खेतियों के तबाह होने की.

और न तुम्हारी जानों में (11)
(11) बीमारियों की और औलाद के दुखों की.

मगर वह एक किताब में है(12)
(12) लौहे मेहफ़ूज़ में.

पहले इसके कि हम उसे पैदा करें(13)
(13) यानी ज़मीन को या जानों को या मुसीबत को.

बेशक यह (14)
(14) यानी इन बातों का कसरत के बावुजुद लौह में दर्ज फ़रमाना.

अल्लाह को आसान है {22} इसलिये कि ग़म न खाओ उस(15)
(15) दुनिया की माल मत्ता.

पर जो हाथ से जाए और ख़ुश न हो(16)
(16) यानी न इतराओ.

उसपर जो तुम को दिया(17)
(17) दुनिया की माल मत्ता, और यह समझ लो कि जो अल्लाह तआला ने मुक़द्दर फ़रमाया है ज़रूर होता है, न ग़म करने से कोई गई हुई चीज़ वापस मिल सकती है न फ़ना होने वाली चीज़ इतराने के लायक़ है तो चाहिये कि ख़ुशी की जगह शुक्र और ग़म की जगह सब्र इख़्तियार करो. ग़म से मुराद यहाँ इन्सान की वह हालत है जिसमें सब्र और अल्लाह की मर्ज़ी से राज़ी रहना और सवाब की उम्मीद बाक़ी न रहे और ख़ुशी से वह इतराना मुराद है जिसमें मस्त होकर आदमी शुक्र से ग़ाफ़िल हो जाए और वह ग़म और रंज जिसमें बन्दा अल्लाह की तरफ़ मुतवज्जह हो और उसकी रज़ा पर राज़ी हो. ऐसे ही वह ख़ुशी जिस पर अल्लाह तआला का शुक्र गुज़ार हो, मना नहीं है. हज़रत इमाम जअफ़रे सादिक़ रदियल्लाहो अन्हो ने फ़रमाया ऐ आदम के बेटे, किसी चीज़ के न होने पर ग़म क्यों करता है यह उसको तेरे पास वापस न लाएगा और किसी मौजूद चीज़ पर क्यों इतराता है मौत उसको तेरे हाथ में न छोड़ेगी.

और अल्लाह को नहीं भाता कोई इतरौना बड़ाई मारने वाला {23} वो जो आप बुख़्ल (कंजूसी) करें (18)
(18) और अल्लाह की राह और भलाई के कामों में ख़र्च न करें और माली हुक़ूक़ की अदायगी से क़ासिर (असमर्थ) रहें.

और औरों से बुख़्ल को कहें (19)
(19) इसकी तफ़सीर में मुफ़स्सिरों का एक क़ौल यह भी है कि यहूदियों के हाल का बयान है और कंजूसी से मुराद उनका सैयदे आलम सल्लल्लाहो अलैहे वसल्लम के उन गुणों को छुपाना है जो पिछली किताबों में दर्ज थे.

और जो मुंह फेरे(20)
(20) ईमान से या माल ख़र्च करने से या ख़ुदा और रसूल की फ़रमाँबरदारी से.

तो बेशक अल्लाह ही बेनियाज़ है सब ख़ूबियों सराहा {24} बेशक हमने अपने रसूलों को दलीलों के साथ भेजा और उनके साथ किताब (21)
(21) अहकाम और क़ानून की बयान करने वाली.

और इन्साफ़ की तराज़ू उतारी(22)
(22) तराज़ू से मुराद इन्साफ़ है. मानी ये है कि हम ने इन्साफ़ का हुक्म दिया और एक क़ौल यह है कि तराज़ू से वज़न का आला ही मुराद है कि हज़रत जिब्रईल अलैहिस्सलाम हज़रत नूह अलैहिस्सलाम के पास तराज़ू लाए और फ़रमाया कि अपनी क़ौम को हुक्म दीजिये कि इससे वज़न करें.

कि लोग इन्साफ़ पर क़ायम हों(23)
(23) और कोई किसी का हक़ न मारे.

और हमने लोहा उतारा(24)
(24) कुछ मुफ़स्सिरों ने फ़रमाया कि उतारना यहाँ पैदा करने के मानी में हैं. मुराद यह है कि हमने लोहा पैदा किया और लोगों के लिये खानों से निकाला और उन्हें उसकी सनअत का इल्म दिया और यह भी रिवायत है अल्लाह तआला ने चार बरकत वाली चीज़ें आसमान से ज़मीन की तरफ़ उतारीं, लोहा, आग, पानी और नमक.

उसमें सख़्त आंच नुक़सान (25)
(25) और निहायत क़ुव्वत कि उससे जंग के हथियार बनाए जाते हैं.

और लोगों के फ़ायदे(26)
(26) कि सनअतों और हिरफ़तों में वह बहुत काम आता है. ख़ुलासा यह कि हमने रसूलों को भेजा और उनके साथ इन चीज़ों को उतारा ताकि लोग सच्चाई और इन्साफ़ का मामला करें.

और इसलिये कि अल्लाह देखे उसको जो बे देखे उसकी(27)
(27) यानी उसके दीन की.

और उसके रसूलों की मदद करता है, बेशक अल्लाह क़ुव्वत वाल ग़ालिब है(28) {25}
(28) उसको किसी की मदद दरकार नहीं. दीन की मदद करने का जो हुक्म दिया गया है उन्हीं के नफ़े के लिये है.

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: