22 सूरए हज -पहला रूकू

22 सूरए हज -पहला रूकू


सूरए हज मदीने में उतरी, इसमें 78 आयतें, दस रूकू हैं.

अल्लाह के नाम से शुरू जो बहुत मेहरबान रहमत वाला(1)
(1) सूरए हज हज़रत इब्ने अब्बास और मुजाहिद के क़ौल के अनुसार मक्का में उतरी, सिवा छ आयतों के जो “हाज़ाने ख़स्माने” से शुरू होती हैं. इस सूरत में दस रूकू, 78 आयतें, एक हज़ार दो सौ इक्यानवे कलिमात और पाँच हज़ार पछत्तर अक्षर हैं.

ऐ लोगों अपने रब से डरो(2)
(2) उसके अज़ाब का ख़ौफ़ करो और उसकी फ़रमाँबरदारी में लग जाओ.

बेशक क़यामत का ज़लज़ला(3)
(3)  जो क़यामत की निशानियों में से है और क़यामत के क़रीब सूरज के पश्चिम से निकलने के नज़दीक वाक़े होगा.

बड़ी सख़्त चीज़ है{1} जिस दिन तुम उसे देखोगे हर दूध पिलाने वाली(4)
(4)  उसकी दहशत से.

अपने दूध पीते को भूल जाएगी और हर गाभिनी(5)
(5) यानी गर्भ वाली उस दिन के हौल से.

अपना गाभ डाल देगी(6)
(6) गर्भ गिर जाएंगे.

और तू लोगों को देखेगा जैसे नशे में हैं और वो नशे में न होंगे(7)
(7) बल्कि अल्लाह के अज़ाब के ख़ौफ़ से लोगों के होश जाते रहेंगे.

मगर यह कि अल्लाह की मार कड़ी है{2} और कुछ लोग वो हैं कि अल्लाह के मामले में झगड़ते हैं वे जाने बूझे और हर सरकश शैतान के पीछे हो लेते हैं(8){3}
(8) यह आयत नज़र बिन हारिस के बारें में उतरी जो बड़ा ही झगड़ालू था और फ़रिश्तों को ख़ुदा की बेटियाँ और क़ुरआन को पहलो के किस्से बताता था और मौत के बाद उठाए जाने का इन्कार करता था.

जिस पर लिख दिया गया है कि जो इसकी दोस्ती करेगा तो यह ज़रूर उसे गुमराह कर देगा और उसे दोज़ख़ के अज़ाब की राह बताएगा(9){4}
(9) शैतान के अनुकरण के नुक़सान बताकर दोबारा उठाए जाने वालों पर हुज्जत क़ायम फ़रमाई जाती हैं.

ऐ लोगो अगर तुम्हें क़यामत के दिन जीने में कुछ शक हों तो यह ग़ौर करो कि हमने तुम्हें पैदा किया मिट्टी से(10)
(10) तुम्हारी नस्ल की अस्ल यानी तुम्हारे सबसे बड़े दादा हज़रत आदम अलैहिस्सलाम को उससे पैदा करके.

फिर पानी की बूंद से(11)
(11)  यानी विर्य की बूंद से उनकी तमाम सन्तान को.

फिर ख़ून की फुटक से(12)
(12)  कि नुत्फ़ा गन्दा ख़ून हो जाता है.

फिर गोश्त की बोटी से नक़शा बनी और बे बनी(13)
(13) यानी सूरत वाली और बग़ैर सूरत वाली. बुखारी और मुस्लिम की हदीस में है, सैयदे आलम सल्लल्लाहो अलैहे वसल्लम ने फ़रमाया तुम लोगों की पैदायश का माद्दा माँ के पेट में चालीस रोज़ तक नुत्फ़ा रहता है फिर इतनी ही मुद्दत में बन्धा हुआ ख़ून हो जाता है, फिर इतनी ही मुद्दत गोश्त की बोटी की तरह रहता है. फिर अल्लाह तआला फ़रिश्ता भेजता है जो उसका रिज़्क़, उसकी उम्र, उसके कर्म, उसके बुरे या अच्छे होने की लिखता है, फिर उसमें रूह फूंकता है, (हदीस) अल्लाह तआला इन्सान की पैदाइश इस तरह फ़रमाता है और उसको एक हाल से दूसरे हाल की तरफ़ मुन्तक़िल करता है, यह इसलिये बयान फ़रमाया गया है.

ताकि हम तुम्हारे लिये निशानियां ज़ाहिर फ़रमाएं(14)
(14) और तुम अल्लाह की भरपूर क़ुदरत और हिकमत को जानो और अपनी पैदाइश की शुरूआत के हालात पर नज़र करके समझ लो कि जो सच्ची क़ुदरत वाला बेजान मिट्टी में इतने इन्क़लाब करके जानदार आदमी बना देता है, वह मरे हुए इन्सान को ज़िन्दा करे तो उसकी क़ुदरत से क्या दूर है.

और हम ठहराए रखते हैं माओ के पेट में जिसे चाहें एक निश्चित मीआद तक(15)
(15) यानी पैदायश के वक़्त तक.

फिर तुम्हें निकालते हैं बच्चा फिर(16)
(16) तुम्हें उम्र देते हैं.

इसलिये कि तुम अपनी जवानी को पहुंचो(17)
(17) और तुम्हारी अक़्ल और क़ुव्वत कामिल हो.

और तुम में कोई पहले मर जाता है और कोई सबसे निकम्मी उम्र तक डाला जाता है (18)
(18) और उसको इतना बुढापा आ जाता है कि अक़्ल और हवास अपनी जगह नहीं रहते और ऐसा हो जाता है.

कि जानने के बाद कुछ न जाने(19)
(19) और जो जानता हो वह भूल जाए. अकरमह ने कहा कि जो क़ुरआन को हमेशा पढ़ता रहेगा, इस हालत को न पहुंचेगा. इसके बाद अल्लाह तआला मरने के बाद उठने पर दूसरी दलील बयान फ़रमाता है.

और तू ज़मीन को देखे मुरझाई हुई(20)
(20) ख़ुश्क और बिना हरियाली का.

फिर जब हमने उसपर पानी उतारा तरो ताज़ा हुई और उभर आई और हर रौनक़दार जोड़ा(21)
(21) यानी हर क़िस्म का ख़ुशनुमा सब्ज़ा.

उगा लाई (22){5}
(22) ये दलीलें बयान फ़रमाने के बाद निष्कर्ष बयान फ़रमाया जाता है.

यह इसलिये है कि अल्लाह ही हक़ है(23)
(23) और यह जो कुछ ज़िक्र किया गया. आदमी की पैदायश और सूखी बंजर ज़मीन को हरा भरा कर देना. उसके अस्तित्व और हिकमत की दलीलें हैं, इन से उसका वुजूद भी साबित होता है.

और यह कि वह मुर्दे जिलाएगा और यह कि वह सब कुछ कर सकता है{6} और इसलिये कि क़यामत आने वाली उसमें कुछ शक नहीं और यह कि अल्लाह उठाएगा उन्हें जो कब्रों में है{7} और कोई आदमी वह है कि अल्लाह के बारे में यूं झगड़ता है कि न तो इल्म न कोई दलील और न कोई रौशन नविश्ता (लेखा) (24){8}
(24) यह आयत अबू जहल वग़ैरह काफ़िरों की एक जमाअत के बारे में उतरी जो अल्लाह तआला की सिफ़ात में झगड़ा करते थे और उसकी तरफ़ ऐसे गुण जोड़ा करते थे जो उसकी शान के लायक़ नहीं. इस आयत में बताया गया कि आदमी को कोई बात बग़ैर जानकारी और बिना प्रमाण और तर्क के नहीं कहनी चाहिये. ख़ासकर शाने इलाही में. और जो बात इल्म वाले के खिलाफ़ बेइल्मी से कही जाएगी, वह झूट होगी फिर उसपर यह अन्दाज़ कि ज़ोर दे और घमण्ड के तौर पर.

हक़ से अपनी गर्दन मोड़े हुए ताकि अल्लाह की राह से बहका दे(25)
(25) और उसके दीन से फेर दे.

उसके लिये दुनिया में रूसवाई है(26)
(26) चुनांचे बद्र में वह ज़िल्लत और ख़्वारी के साथ मारा गया.े

और क़यामत के दिन हम उसे आग का अज़ाब चखाएंगे(27) {9}
(27) और उससे कहा जाएगा.

यह उसका बदला है जो तेरे हाथों ने आगे भेजा(28)
(28) यानी जो तूने दुनिया में किया, कुफ़्र और झुटलाया.

और अल्लाह बन्दों पर ज़ुल्म नहीं करता(29){10}
(29) और किसी को बे जुर्म नहीं पकड़ता.

Advertisements

22 सूरए हज -दूसरा रूकू

22 सूरए  हज -दूसरा रूकू


और कुछ आदमी अल्लाह की बन्दगी एक किनारे पर करते हैं,(1)
(1) उस में इत्मीनान से दाख़िल नहीं होते  और उन्हें पायदारी हासिल नहीं होती. शक शुब्ह संदेह और आशंका में पड़े रहते हैं जिस तरह पहाड़ के किनारे खड़ा हुआ आदमी डगमगाता रहता है. यह आयत अरब देहातियों की एक जमाअत के बारे में उतरी जो आस पास से आकर मदीने में दाखिल होते और इस्लाम लाते थे. उनकी हालत यह थी कि अगर वो ख़ूब स्वस्थ रहे और उनकी दौलत बढ़ी और उनके बेटा हुआ तब तो कहते थे कि इस्लाम अच्छा दीन है, इसमें आकर हमें फ़ायदा हुआ और अगर कोई बात अपनी उम्मीद के ख़िलाफ़ हुई जैसे कि बीमार पड़ गए या लड़की हो गई या माल की कमी हुई तो कहते थे जबसे हम इस दीन में दाख़िल हुए हैं हमें नुक़सान ही हुआ. और दीन से फिर जाते थे. ये आयत उनके हक में उतरी और बताया गया कि उन्हें अभी दीन में पायदारी ही हासिल नहीं हुई, उनका हाल यह है.

फिर अगर उन्हे कोई भलाई पहुंच गई जब तो चैन से हैं, और जब कोई जांच आकर पड़ी, (2)
(2) किसी क़िस्म की सख़्ती पेश आई.

मुंह के बल पलट गए,(3)
(3) मुर्तद हो गए और कुफ़्र की तरफ़ लौट गए.

दुनिया और आख़िरत दोनों का घाटा,(4)
(4) दुनिया का घाटा तो यह कि जो उनकी उम्मीदें थीं वो पूरी न हुई और दीन से फिरने के कारण उनका क़त्ल जायज़ हुआ और आख़िरत का घाटा हमेशा का अज़ाब.

यही है खुला नुक़सान (5){11}
(5)  वो लोग मुर्तद होने के बाद बुत परस्ती करते हैं और….

अल्लाह के सिवा ऐसे को पूजते हैं जो उनका बुरा भला कुछ न करे,(6)
(6) क्योंकि वह बेजान हैं.

यही है दूर की गुमराही{12} ऐसे को पूजते हैं जिसके नफ़े से(7)
(7) यानी जिसकी पूजा के ख़याली नफ़े से उसके पूजने के…

नुक़सान की तवक़्क़ो(आशा) ज़्यादा है, (8)
(8) यानी दुनिया और आख़िरत के अज़ाब की.

बेशक(9)
(9) वो बुत.

क्या ही बुरा मौला और बेशक क्या ही बुरा साथी{13} बेशक अल्लाह दाख़िल करेगा उन्हें जो ईमान लाए और भले काम किये बाग़ों में जिन के नीचे नहरें बहें, बेशक अल्लाह करता है जो चाहे(10){14}
(10) फ़रमाँबरदारों पर ईनआम और नाफ़रमानों पर अज़ाब.

जो यह ख़याल करता हो कि अल्लाह अपने नबी(11)
(11)  हज़रत मुहम्मदें मुस्तफ़ा सल्लल्लाहो अलैहे वसल्लम.

की मदद न फ़रमाएगा दुनिया(12)
(12)  मैं उनके दीन को ग़लबा अता फ़रमा कर.

और आख़िरत में (13)
(13) उनके दर्ज़ें बलन्द करके.

तो उसे चाहिये कि ऊपर को एक रस्सी ताने फिर अपने आपको फांसी देले फिर देखे कि उसका यह दाँव कुछ ले गया उस बात को जिसकी उसे जलन है(14){15}
(14) यानी अल्लाह तआला अपने नबी की मदद ज़रूर फ़रमाएगा. जिसे उससे जलन हो, वह अपनी आख़िरी कोशिश ख़त्म भी कर दे और जलन में मर भी जाए तो भी कुछ नहीं कर सकता.

और बात यही है कि हमने यह क़ुरआन उतारा रौशन आयतें और यह कि अल्लाह राह देता है जिसे चाहे{16} बेशक मुसलमान और यहूदी और सितारा पूजने वाले और ईसाई और आग की पूजा करने वाले और मूर्ति पूजक बेशक अल्लाह उन सब में क़यामत के दिन फैसला कर देगा, (15)
(15) मूमिन को जन्नत अता फ़रमाएगा और काफ़िरों को, किसी क़िस्म के भी हों, जहन्नम में दाख़िल करेगा.

बेशक हर चीज़ अल्लाह के सामने है {17} क्या तुमने न देखा(16)
(16) ऐ हबीबे अकरम सल्लल्लाहो अलैका वसल्लम !

कि अल्लाह के लिये सज्दा करते हैं वो जो आसमानों और ज़मीन में हैं और सूरज और चांद और तारे और पहाड़ और दरख़्त और चौपाए (17)
(17) यकसूई वाला सज्दा, जैसा अल्लाह चाहे.

और बहुत आदमी(18)
(18) यानी मूमिनीन, इसके अलावा सज्दए ताअत और सज्दए इबादत भी.

और बहुत वो हैं जिनपर अज़ाब मुक़र्रर (निश्चित) हो चुका(19)
(19) यानी काफ़िर.{12}

और जिसे चाहे अल्लाह ज़लील करे(20)
(20) उसकी शक़ावत और बुराई के कारण.

उसे कोई इज़्ज़त देने वाला नहीं बेशक अल्लाह जो चाहे करे{18} ये दो फ़रीक़ (पक्ष) हैं(21)
(21) यानी ईमान वाले और पाँचों क़िस्म के काफ़िर जिनका ज़िक़्र ऊपर किया गया हैं.

कि अपने रब में झगड़े,(22)
(22) यानी इस दीन के बारे में और उसकी सिफ़त में.

तो जो काफ़िर हुए उनके लिये आग के कपड़े ब्यौंते (काटे) गए हैं, (23)
(23) यानी आग उन्हें हर तरफ़ से घेर लेगी.

और उनके सरो पर खोलता पानी डाला जाएगा(24){19}
(24) हज़रत इब्ने अब्बास रदियल्लाहो अन्हुमा ने फ़रमाया, ऐसा तेज़ गर्म कि अगर उसकी एक बूंद दुनिया के पहाड़ों पर डाल दी जाए तो उनको गला डाले.

जिससे गल जाएगा जो कुछ उनके पेटों में है और उनकी खालें(25){20}
(25) हदीस शरीफ़ में है, फिर उन्हें वैसा ही कर दिया जाएगा. (तिरमिज़ी)

और उनके लिये लोहे के गुर्ज़ (गदा) हैं(26){21}
(26) जिनसे उनको मारा जाएगा.

जब घुटन के कारण उसमें से निकलना चाहेंगे (27)
(27) यानी दोज़ख़ में से, तो गुर्ज़ों से मारकर.
फिर उसी में लौटा दिये जाएंगे, और हुक्म होगा कि चखो आग का अज़ाब{22}