सूरए माइदा – तीसरा रूकू

सूरए माइदा – तीसरा रूकू

अल्लाह के नाम से शुरू जो बहुत मेहरबान रहमत वाला
और बेशक अल्लाह ने बनी इस्त्राईल से एहद लिया (1)
और हमने उनमें बारह सरदार क़ायम किये (2)
और अल्लाह ने फ़रमाया बेशक मैं (3)
तुम्हारे साथ हूँ ज़रूर अगर तुम नमाज़ क़ायम रखो और ज़कात दो और मेरे रसूलों पर ईमान लाओ और उनकी ताज़ीम (आदर) करो और अल्लाह को क़र्ज़े हसन दो (4)
बेशक मैं तुम्हारे गुनाह उतार दूंगा और ज़रूर तुम्हें बागों में ले जाऊंगा जिनके नीचे नेहरें बहें फिर उसके बाद जो तुम में से कुफ़्र करे वह ज़रूर सीधी राह से बहका (5)(12)
तो उनकी कैसी बद-एहदीयों (वचन भंग) (6)
पर हमने उन्हें लअनत की और उनके दिल सख़्त कर दिये अल्लाह की बातों को (7)
उनके ठिकानों से बदलते हैं और भुला बैठे बङा हिस्सा उन नसीहतों का जो उन्हें दी गईं (8)
और तुम हमेशा उनकी एक न एक दग़ा पर मुत्तला (सूचित) होते रहोगे (9)
सिवा थोङों के (10)
तो उन्हें माफ़ करदो और उनसे दरगुज़रो (क्षमा करो) (11)
बेशक एहसान वाले अल्लाह को मेहबूब हैं (13)
और वो जिन्हों ने दावा किया कि हम नसारा (ईसाई) हैं हमने उनसे एहद किया (12)
तो वो भुला बैठे बङा हिस्सा उन नसीहतों का जो उन्हें दी गईं (13)
तो हमने उनके आपस में क़यामत के दिन तक बैर और बुग़्ज़ (द्वेष) डाला दिया (14)
और बहुत जल्द अल्लाह उन्हें बता देगा जो कुछ करते थे (15) (14)
ऐ किताब वालो (16)
बेशक तुम्हारे पास हमारे यह रसूल (17)
तसरीफ़ लाए कि तुमपर ज़ाहिर फ़रमाते हैं बहुत सी वो चीज़ें जो तुमने किताब में छुपा डाली थीं (18)
और बहुत सी माफ़ फ़रमाते हैं (19)
बेशक तुम्हारे पास अल्लाह की तरफ़ से एक नूर आया (20)
और रौशन किताब (21) (15)
अल्लाह उससे हिदायत देता है उसे जो अल्लाह की मर्जी़ पर चला सलामती के रास्ते और उन्हें अंधेरियों से रौशनी की तरफ़ ले जाता है अपने हुक्म से और उन्हें सीधी राह दिखाता है(16)
बेशक काफ़िर हुए वो जिन्होंने कहा कि अल्लाह मसीह मरयम का बेटा ही है (22)
तुम फ़रमा दो फिर अल्लाह का कोई क्या कर सकता है अगर वह चाहे कि हलाक करदे मसीह मरयम के बेटे और उसकी माँ और तमाम ज़मीन वालों को (23)
और अल्लाह ही के लिये है सल्तनत आसमानों और ज़मीन और उनके दरमियान की जो चाहे पैदा करता है और अल्लाह सब कुछ कर सकता है (17)
और यहुदी और ईसाई बोले कि हम अल्लाह के बेटे और उनके प्यारे हैं (24)
तुम फ़रमादो फिर तुम्हें क्यों तुम्हारे गुनाहों पर अज़ाब फ़रमाता है (25)
बल्कि तुम आदमी हो उसकी मख़लूक़ात (सृष्टि) से जिसे चाहे बख़्श्ता है और जिसे चाहे सज़ा देता है और अल्लाह के लिये है सल्तनत आसमानों और ज़मीन और इन के दरमियान की और उसीकी तरफ़ फिरना है(18)
ऐ किताब वालो बेशक तुम्हारे पास हमारे यह रसूल (26)
तशरीफ़ लाए कि तुमपर हमारे आदेश ज़ाहिर फ़रमाते हैं बाद इसके कि रसूलों का आना मुद्दतों (लम्बे समय तक) बन्द रहा था (27)
कि कभी कहो कि हमारे पास कोई ख़ुशी और डर सुनाने वाला न आया तो ये ख़ुशी और डर सुनाने वाले तुम्हारे पास तशरीफ़ लाए हैं और अल्लाह को सब क़ुदरत है (19)

तफसीर
सूरए माइदा – तीसरा रूकू

(1) कि अल्लाह की इबादत करेंगे, उसके साथ किसी को शरीक न करेंगे. तौरात के आदेशों का पालन करेंगे.

(2) हर गिरोह पर एक सरदार, जो अपनी क़ौम का ज़िम्मेदार हो कि वो एहद पूरा करेंगे और हुक्म पर चलेंगे.

(3) मदद और सहायता से.

(4) यानी उसकी राह में ख़र्च करो.

(5) वाक़िआ यह था कि अल्लाह तआला ने हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम से वादा फ़रमाया था कि उन्हें और उनकी क़ौम को पाक सरज़मीन का वारिस बनाएगा जिसमें कनआनी जब्बार यानी अत्याचारी रहते थे. तो फ़िरऔन के हलाक के बाद हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम को अल्लाह का हुक्म हुआ कि बनी इस्त्राईल को पाक सरज़मीन की तरफ़ ले जाओ, मैं ने उसको तुम्हारे लिये सुकून की जगह बनाया है तो वहाँ जाओ और जो दुश्मन वहाँ हैं उनपर जिहाद करो. मैं तुम्हारी मदद फ़रमाऊंगा . और ऐ मूसा, तुम अपनी क़ौम के हर हर गिरोह में से एक एक सरदार बनाओ इस तरह बारह सरदार मुक़र्रर करो. हर एक उनमें से अपनी क़ौम के हुक्म मानने और एहद पूरा करने का ज़िम्मेदार हो. हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम सरदार चुनकर बनी इस्त्राईल को लेकर रवाना हुए. जब अरीहा के क़रीब पहुंचे तो जासूसों को हालात का जायज़ा लेने के लिये भेजा. वहाँ उन्होंने देखा कि लोग बहुत लम्बे चौड़े, ताक़तवर, दबदबे और रोब वाले हैं. ये उनसे डर कर वापस आ गए और आकर उन्होंने अपनी क़ौम से सारा हाल कहा. जबकि उनको इससे मना किया गया था. लेकिन सब ने एहद तोड़ा, सिवाय कालिब बिन यूक़न्ना और यूशअ बिन नून के कि ये एहद पर क़ायम रहे.

(6) कि उन्होंने अल्लाह का एहद तोड़ा और हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के बाद आने वाले नबियों को झुटलाया और क़त्ल किया, किताब के आदेशों की अवहेलना की.

(7) जिसमें सैयदे आलम सल्लल्लाहो अलैहे वसल्लम की तारीफ़ और गुणगान है और जो तौरात में बयान की गई हैं.

(8) तौरात में, कि सैयदे आलम सल्लल्लाहो अलैहे वसल्लम का अनुकरण करें और उनपर ईमान लाएं.

(9) क्योंकि दग़ा और ख़यानत और एहद तोड़ना और नबियों के साथ बदएहदी उनकी और उनके पूर्वजों की पुरानी आदत है.

(10) जो ईमान लाए.

(11) और जो कुछ उनसे पहले हुआ उसपर पकड़ न करो. कुछ मुफ़स्सिरों का कहना है कि यह आयत उस क़ौम के बारे में उतरी जिन्होंने पहले तो नबी सल्लल्लाहो अलैहे वसल्लम से एहद किया फिर तोड़ा. फिर अल्लाह तआला ने अपने नबी सल्लल्लाहो अलैहे वसल्लम को उसपर सूचित किया और यह आयत उतारी. उस सूरत में मानी ये हैं कि उनके इस एहद तोड़ने से दरग़ुज़र कीजिये जबतक कि वो जंग से रूके रहें और जिज़िया अदा करने से मना न करें.

(12) अल्लाह तआला और उसके रसूलों पर ईमान लाने का.

(13) इन्जील में, और उन्होंने एहद तोड़ा.

(14) क़तादा ने कहा कि जब ईसाईयों ने अल्लाह की किताब (इंजील) पर अमल करना छोड़ दिया, और रसूलों की नाफ़रमानी की, फ़र्ज़ अदा न किये, हुदूद की परवाह न की, तो अल्लाह तआला ने उनके बीच दुश्मनी डाल दी.

(15) यानी क़यामत के दिन वो अपने चरित्र का बदला पाएंगे.

(16) यहूदियों और ईसाईयों.

(17) सैयदे आलम, मुहम्मदे मुस्तफ़ा (सल्लल्लाहो अलैहे वसल्लम)

(18) जैसे कि आयते रज्म और सैयदे आलम सल्लल्लाहो अलैहे वसल्लम के गुण और हुज़ूर का इसको बयान फ़रमाना चमत्कार है.

(19) और उनका ज़िक्र भी नहीं करते, न उनकी पकड़ करते हैं. क्योंकि आप उसी चीज़ का ज़िक्र फ़रमाते हैं जिसमें मसलिहत हो.

(20) सैयदे आलम सल्लल्लाहो अलैहे वसल्लम को नूर फ़रमाया गया क्योंकि आपसे कुफ़्र का अंधेरा दूर हुआ और सच्चाई का रास्ता खुला.

(21) यानी क़ुरआन शरीफ़.

(22) हज़रत इब्ने अब्बास (रदियल्लाहो अन्हुमा) ने फ़रमाया कि नजरान के ईसाईयों से यह कथन निकला. और ईसाईयों के याक़ूबिया व मल्कानिया (सम्प्रदायों) का यह मज़हब है कि वो हज़रत मसीह को अल्लाह बताते हैं क्योंकि वो हुलूल के क़ायल हैं. और उनका झूठा अक़ीदा यह है कि अल्लाह तआला ने हज़रत ईसा के बदन में प्रवेश किया. अल्लाह तआला ने इस आयत में इस अक़ीदे पर कुफ़्र का हुक्म दिया और उनके मज़हब का ग़लत होना बयान फ़रमाया.

(23) इसका जवाब यही है कि कोई कुछ नहीं कर सकता तो फिर हज़रत मसीह को खुदा बताना कितनी खुली ग़लती है.
(24) सैयदे आलम सल्लल्लाहो अलैहे वसल्लम के पास किताब वाले आए और उन्होंने दीन के मामले में आपसे बात चीत शुरू की. आपने उन्हें इस्लाम की दावत दी और अल्लाह की नाफ़रमानी करने से उसके अज़ाब का डर दिलाया तो वो कहने लगे कि ऐ मुहम्मद ! आप हमें क्या डराते हैं ? हम तो अल्लाह के बेटे और उसके प्यारे हैं. इस पर यह आयत उतरी और उनके इस दावे का ग़लत होना ज़ाहिर फरमाया गया.

(25) यानी इस बात का तुम्हें भी इक़रार है कि गिन्ती के दिन तुम जहन्नम में रहोगे, तो सोचो कोई बाप अपने बेटे की या कोई शख़्स अपने प्यारे को आग में जलाता है ? जब ऐसा नहीं, तो तुम्हारे दावे का ग़लत होना तुम्हारे इक़रार से साबित है.

(26) मुहम्मदे मुस्तफ़ा सल्लल्लाहो अलैहे वसल्लम.

(27) हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम के बाद, सैयदे आलम सल्लल्लाहो अलैहे वसल्लम के ज़माने तक 569 बरस की मुद्दत नबी से ख़ाली रही. इसके बाद हुज़ूर के तशरीफ़ लाने की मिन्नत का इज़हार फ़रमाया जाता है कि निहायत ज़रूरत के वक़्त तुम पर अल्लाह तआला की बड़ी नेमत भेजी गई और अब ये कहने का मौक़ा न रहा कि हमारे पास चेतावनी देने वाले तशरीफ़ न लाए.

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: